Anger Management Tips 5: क्रोध को कैसे नियंत्रित करें? जानें एक्सपर्ट्स से अहम टिप्स

Share This Information

Anger Management Tips
Anger Management Tips

Anger Management Tips 5: क्रोध को कैसे नियंत्रित करें? जानें एक्सपर्ट्स से अहम टिप्स

Anger Management Tips: विशेषज्ञों के अनुसार, क्रोध व्यक्ति की भावनाओं, विचारों और व्यवहार का परिणाम है। इससे शरीर में तनाव बढ़ता है। कुछ महत्वपूर्ण क्रोध प्रबंधन युक्तियों का पालन करके और जीवन शैली में परिवर्तन करके इसे नियंत्रित किया जा सकता है।

How To Control Anger: आज की जीवन शैली में अधिकांश लोग तनाव और चिंता से घिरे रहते हैं। हम नहीं जानते कि हम दिन में कितनी बार शाही परिवार को लेकर किसी न किसी बात पर गुस्सा हो जाते हैं। बहुत से लोग अपना गुस्सा दिखाते हैं, लेकिन कुछ लोग इसे अंदर ही रखते हैं, हालांकि गुस्सा हर स्थिति में खतरनाक होता है।

लेकिन इसे ध्यान में रखना ज्यादा जोखिम भरा है। क्योंकि इंसान बार-बार उसी के बारे में सोचता रहता है। इससे हाई ब्लड प्रेशर और स्ट्रेस से जुड़ी कई बीमारियों का खतरा रहता है। दैनिक भास्कर अखबार में छपी खबर में दिल्ली के मैक्स इंस्टीट्यूट ऑफ हार्ट एंड वैस्कुलर साइंसेज के डॉक्टर रजनीश मल्होत्रा ​​ने एंगर मैनेजमेंट पर कुछ टिप्स दिए हैं. डॉक्टर रजनीश कहते हैं कि गुस्से के कारण की पहचान करें और अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करें।

इस रिपोर्ट में लिखा है कि क्रोध व्यक्ति की भावनाओं, विचारों और व्यवहार का परिणाम है। इससे शरीर में तनाव बढ़ता है। जिससे अधिवृक्क ग्रंथि एड्रेनालाईन और कोर्टिसोल जैसे तनाव हार्मोन की मात्रा को बड़ी मात्रा में बढ़ा देती है। इस स्थिति का मुकाबला करने के लिए, मस्तिष्क आंतों से रक्त को मांसपेशियों में भेजता है, जिससे हृदय गति, रक्तचाप और सांस लेने की दर बढ़ जाती है।

Anger Management Tips – दिल का दौरा, स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप, सिरदर्द, अनिद्रा, क्रोध के कारण बढ़े हुए तनाव हार्मोन के कारण चिंता) का खतरा बढ़ जाता है। इतना ही नहीं खान-पान, नींद और रहन-सहन का इस पर सीधा असर पड़ता है। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, ट्रांस फैटी एसिड युक्त खाद्य पदार्थ जैसे पिज्जा, केक, तले हुए खाद्य पदार्थ आदि का सेवन करके मस्तिष्क ओमेगा -3 के उपयोग को कम करने में सक्षम है। ओमेगा -3 क्रोध को कम करने में प्रभावी है।

 

क्रोध को पहचानने और नियंत्रित करने के लिए 3 कदम

ट्रिगर – ऐसी कई स्थितियाँ या घटनाएँ हैं जो क्रोध को भड़का सकती हैं। जैसे लंबी लाइन, ट्रैफिक, भद्दे कमेंट या अत्यधिक थकान आदि। इन्हें ट्रिगर कहा जाता है। आप जितने अधिक ट्रिगर्स की पहचान कर सकते हैं, क्रोध को नियंत्रित करना उतना ही आसान होगा।

संकेत – क्रोध का सीधा प्रभाव शरीर पर पड़ता है। क्रोध के समय हृदय गति बढ़ जाती है। चेहरा लाल हो जाता है। कुछ लोगों की मुट्ठी बांधी जाती है। आंखें लाल होने लगती हैं। इन शारीरिक परिवर्तनों पर नजर रखें। Anger Management Tips

संबंध – हॉवर्ड इंस्टिट्यूट के अनुसार जब भी किसी प्रियजन या दोस्त से कोई बहस हो तो उस व्यक्ति के साथ अपने रिश्ते की अहमियत के बारे में बार-बार सोचना शुरू कर दें। जब आप रिश्तों को महत्व देंगे तो गुस्से को नियंत्रित करना आसान होगा।

सोने और व्यायाम करने से कैसे होगा फायदा?

कम सोने से गुस्सा बढ़ता है – जर्नल ऑफ एक्सपेरिमेंटल साइकोलॉजी के अनुसार अगर किसी व्यक्ति को 2 दिन तक भी दो घंटे कम नींद आती है तो व्यक्ति का गुस्सा बढ़ने लगता है। नींद की कमी से चिंता, थकान, तनाव और उदासी भी बढ़ती है, जिससे गुस्सा बढ़ता है। लगातार तनाव के कारण कोर्टिसोल हार्मोन बढ़ने लगता है। यह रक्तचाप को बढ़ाता है, जो क्रोध का मुख्य कारण है। ऐसे में रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद लेना जरूरी है।

व्यायाम के लाभ – अमेरिकन कॉलेज ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन के अनुसार, 30 मिनट का व्यायाम जैसे दौड़ना, तेज चलना, साइकिल चलाना और तैरना गुस्से को कम करने में कारगर है। दरअसल, एरोबिक्स एक्सरसाइज के लिए ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत होती है। यह हृदय गति को बढ़ाता है, जिससे पल्मोनरी सिस्टम तेजी से काम करता है। यह रक्तचाप और चिंता को कम करता है, दोनों ही क्रोध के लिए जिम्मेदार हैं। Anger Management Tips


Share This Information

Leave a Reply